Wednesday, November 30, 2016

कसमसाई देह फिर /योगेन्द्र दत्त शर्मा

फागुन के बौराये हुए मौसम को समर्पित आदरणीय योगेन्द्र दत्त शर्मा जी का एक गीत

कसमसाई है लता की देह
फागुन आ गया

पारदर्शी दृष्टियों के पार
सरसों का उमगना
गंध-वन में निर्वसन होते
पलाशों का बहकना
अंजुरी भर भर लूटता नेह
फागुन आ गया

इंद्रधनुषी नेह का विस्तार
ओढ़े दिन गुज़रते
अमलताशो से खिले सम्बन्ध
फिर मन में उतरते
पंखुरी सा झर गया संदेह
फागुन आ गया

एक वंशी टेर तिरती
छरहरी अमराइयों में
ताल के संकेत बौराये
चपल परछाइयों में
झुके पातों से टपकता मेह
फागुन आ गया

नम अबीरी दूब पर
छाने लगा लालिम कुहासा
पुर गया रांगोलियों से
व्योम भी कुमकम छुआ सा
पुलक भरते द्वार, आँगन, गेह
फागुन आ गया


योगेन्द्र दत्त शर्मा