Tuesday, December 6, 2016

सबसे अधिक तुम्हीं रोओगे/ राम अवतार त्यागी




प्रस्तुत कर्ता/ अरुण श्री

बड़ी सम्मोहनकारी होता है मन का गीतों की फूल भरी पगडंडियों पर दूर तक भटकते जाना ! कुछ गीत होते भी ऐसे हैं जो अपनी हर पंक्ति- हर शब्द पर मन की न जाने कितनी गिरहें खोलते जाते हैं , परत-दर-परत अन-चिन्हे रहस्यों को उजागर करते हुए एक अलग ही अलौकिक सत्ता गढ़ देते हैं मानों किसी मंदिरों के देश में कोई पवित्र नदी का किनारा अपने पूरे ऐश्वर्य के साथ किसी प्रेयस की प्रेमिल प्रतीक्षा का साक्षी बन रहा हो ! ऐसे ही संबंधों की बात खोलता हुआ , प्रेम की गवाही देता हुआ रामावतार त्यागी जी का ये गीत मुझे बहुत पसंद हैं

आने पर मेरे बिजली-सी कौंधी सिर्फ़ तुम्हारे दृग में,
लगता है जाने पर मेरे सबसे अधिक तुम्हीं रोओगे !

मैं आया तो चारण-जैसा
गाने लगा तुम्हारा आँगन;
हँसता द्वार, चहकती ड्योढी
तुम चुपचाप खड़े किस कारण ?
मुझको द्वारे तक पहुंचाने सब तो आए, तुम्हीं न आए,
लगता है एकाकी पथ पर मेरे साथ तुम्हीं होओगे !

मौन तुम्हारा प्रश्न चिन्ह है,
पूछ रहे शायद कैसा हूँ ?
कुछ कुछ चातक से मिलता हूँ -
कुछ कुछ बादल के जैसा हूँ;
मेरा गीत सुना सब जागे, तुमको जैसे नींद आ गई,
लगता मौन प्रतीक्षा में तुम सारी रात नहीं सोओगे!

तुमनें मुझे अदेखा कर के
संबंधों की बात खोल दी;
सुख के सूरज की आंखों में-
काली काली रात घोल दी;
कल को गर मेरे आँसू की मंदिर में पड़ गई जरुरत -
लगता है आँचल को अपने सबसे अधिक तुम ही धोओगे !

परिचय से पहले ही, बोलो,
उलझे किस ताने बाने में ?
तुम शायद पथ देख रहे थे,
मुझको देर हुई आने में ;
जगभर ने आशीष पठाए, तुमनें कोई शब्द न भेजा,
लगता तुम मन की बगिया में गीतों का बिरवा बोओगे!


रामअवतार त्यागी